श्री खाटू श्याम मंदिर के दर्शन व यात्रा की सम्पूर्ण जानकारी

Khatu Shyam Mandir ki Jankari: खाटू श्याम मंदिर भारत के फेमस मंदिर में से एक हैं। यह भगवान कृष्ण से समर्पित मंदिर हैं। खाटू श्याम मंदिर भारत के राजस्थान राज्य के सीकर जिले से करीब 65 किलो मीटर की दूरी पर एक छोटे से गांव का प्रसिद्ध हिंदू मंदिर हैं। खाटू श्याम मंदिर में प्रत्येक वर्ष करीब 90 लाख से अधिक भक्त खाटू श्याम के दर्शन करने के लिए आते हैं।

भक्तों का मानना है कि खाटू श्याम के मंदिर में सभी की मनोकामना पूर्ण होती हैं। खाटू श्याम मंदिर कृष्ण भगवान के प्रसिद्ध मंदिर में से एक हैं।

Khatu-Shyam-Mandir-ki-Jankari
Image: Khatu Shyam Mandir ki Jankari

आज के इस आर्टिकल में हम आपको खाटू श्याम मंदिर (khatu shyam ji mandir) की जानकारी देंगे। खाटू श्याम मंदिर कहाँ हैं?, खाटू श्याम मंदिर कैसे जाएं?, इन सभी प्रश्नों की जानकारी आपको इस लेख मिलेगी।

यात्राओं से संबंधित नवीनतम जानकारियों के लिए हमारे वाट्सऐप पर जुड़ें Join Now
यात्राओं से संबंधित नवीनतम जानकारियों के लिए हमारे टेलीग्राम पर जुड़ें Join Now

Table of Contents

खाटू श्याम मंदिर का इतिहास

खाटू श्याम मंदिर को रूपसिंह चौहान और धर्मपत्नी नर्मदा कंवर ने वर्ष 1027 ईस्वी में करवाया था। बाद में 1720 ईस्वी में दोबारा से मंदिर का जोरदार करवाया गया था।

मंदिर के गर्भ गृह तथा मूर्ति की स्थापना दीवान अभय सिंह के द्वारा की गई थी। खाटू श्याम मंदिर के इतिहास की बात करें तो इसकी जानकारी आपको महाभारत काल में प्राप्त होती हैं।

यदि आपने महाभारत देखी व पढ़ी होगी तो आपने बर्बरीक का नाम तो अवश्य सुना होगा। बर्बरीक पांडु पुत्र भीम तथा नागकन्या मौरवी के पुत्र थे। बर्बरीक को बचपन से ही बलशाली होने के सभी गुण प्राप्त थे।

बचपन में ही इन्होंने युद्ध करने की कला श्री कृष्ण तथा अपने माता के माध्यम से सीख ली थी। युवा अवस्था में इन्होंने भगवान शिव को प्रसन्न करके उनसे तीन बाण प्राप्त कर लिए थे।

शिव के यह तीनों बाण बर्बरीक को तीनों लोक में विजय बनाने के लिए काफी थे। महाभारत काल में युद्ध के दौरान बर्बरीक युद्ध को देखने के इरादे से युद्ध के मैदान में आ रहा था और यह बात श्री कृष्ण अवश्य जानते थे कि यदि बर्बरीक युद्ध में शामिल होगा तो परिणाम पांडवों के हित में नहीं होगा।

बर्बरीक को युद्ध से रोकने के लिए श्री कृष्ण ने ब्राह्मण का वेश रखकर बराबरी के सामने आए और पूछा कि तुम कौन हो? और रण क्षेत्र में क्या करने जा रहे हो?

श्री कृष्ण को उत्तर देते हुए बर्बरीक ने कहा कि वह एक दानी है तथा और उसके बाण ही महाभारत युद्ध का निर्णय कर देगा। ऐसे में श्री कृष्ण ने बर्बरीक की परीक्षा लेनी चाही तो बर्बरीक ने एक बाण चलाया, जिसमें पीपल के पेड़ के सारे पत्ते में छेद हो गया।

भगवान श्री कृष्ण बरबरी के युद्ध क्षमता से परिचित थे और उसको किसी भी प्रकार से युद्ध में शामिल होने से रोकना चाहते थे, इसलिए श्री कृष्ण ने बर्बरीक से कहा कि तुम यदि बड़े पराक्रमी हो तो मुझ गरीब को कुछ दान नहीं दोगे।

ऐसे में बर्बरीक ने जब श्री कृष्ण से दान मांगने को कहा तो श्री कृष्ण ने बर्बरीक का शीश दान में मांग लिया। बर्बरीक तुरंत ही समझ गए कि यह दान मांगने वाला अन्य कोई नहीं है बल्कि भगवान श्री कृष्ण और उन्होंने श्री कृष्ण ने वास्तविक परिचय देने के लिए कहा, जब श्री कृष्ण ने अपना वास्तविक परिचय दिया तो बर्बरीक ने खुशी-खुशी अपना शीश कृष्ण को दान कर दिया।

बर्बरीक ने फागुन शुल्क दशमी को स्नान पूजा करके अपने हाथों से अपने शरीर को श्रीकृष्ण को दान दे दिया था। लेकिन शीश दान  से पहले बर्बरीक ने सिर्फ युद्ध देखने की इच्छा जताई थी। इसलिए श्री कृष्ण ने बर्बरीक के सिर को ऊंची चोटी पर युद्ध देखने के लिए रख दिया था।

महाभारत का युद्ध समाप्त होने के बाद पांडव विजय का श्रेय लेने के लिए आपस में वाद विवाद कर रहे थे। तब श्री कृष्ण ने कहा की ऐसे में युद्ध का निर्णय बर्बरीक ही बताएगा तो बर्बरीक के शीश ने बताया कि युद्ध में श्री कृष्ण का सुदर्शन चक्र चलाता है, जिससे कटे हुए वृत्तचित्र उद्धारण भूमि में ढेर हो रहे थे और वही द्रोपदी महाकाली का रूप में रक्त का पान कर रही थी।

भगवान श्री कृष्ण ने इस बात से प्रसन्न होकर बर्बरीक के कटे हुए सिर को वरदान दिया और कहा कि कलयुग में तुम मेरे श्याम नाम से पूजा जाओगे, तुम्हारे स्मरण मात्र से ही मेरे सभी भक्तों का कल्याण हो जाएगा और धर्म अर्थ तथा मोक्ष की प्राप्ति होगी।

खाटू श्याम मंदिर का निर्माण

खाटू श्याम मंदिर में आपको समृद्धि वास्तुकला देखने को मिलता है। मंदिर का निर्माण पत्थर, टाइल्स, चुने के मोर्टार और अन्य कई तरह के दुर्लभ पत्थर से किया गया है। मंदिर के ठीक केंद्र में प्रार्थना कक्ष है, जिसे जगमोहन कहा जाता है।

मंदिर के दीवारों पर पौराणिक प्राणियों को चित्रित किया गया है। मंदिर के प्रवेश और निकास द्वार को संगमरमर से बनाया गया है। खाटू श्याम मंदिर के अंदर ही आलू सिंह नामक व्यक्ति की समाधि स्थल भी बना हुआ हैं। बाबा खाटू श्याम की मूर्ति मंदिर के गर्भ गृह में स्थापित की गई थी।

मंदिर की सभी दीवारों को सोने की चादरों के माध्यम से डेकोरेट किया गया हैं। मंदिर परिसर में ही आपको एक सुंदर बगीचा देखने को मिलता है, जिसको शाम बगीचा के नाम से भी जाना जाता हैं।

मंदिर में पूजा करने के लिए व मूर्तियों को चढ़ाने के लिए फूल इसी बगीचे से प्राप्त किया जाता है। मंदिर के परिसर में ही श्याम कुंड स्थित है जहां पर भगवान का सिर खोजा गया था।

माना जाता है इसमें डुबकी लगाने से श्रद्धालु पवित्र हो जाते हैं। इस मंदिर के नजदीक हीगौरी शंकर और गोपीनाथ के दो और मंदिर स्थित है।

यह भी पढ़े: 10+ मैहर में घूमने वाली जगह और मंदिर खुलने का समय

खाटू श्याम मंदिर कहाँ है?

बाबा खाटू श्याम का मंदिर राजस्थान राज्य के सीकर जिले के रीगस टाउन के पास में स्थित हैं। आप बस, कार और ट्रेन के माध्यम से बाबा के दर्शन करने जा सकते हैं।

खाटू श्याम मंदिर जाने का समय

यदि आप खाटू श्याम मंदिर जाना चाहते हैं तो आप अक्टूबर से मार्च के बीच के महीने में कभी भी आ सकते हैं। क्योंकि खाटू श्याम का मंदिर राजस्थान के सीकर जिले में स्थित है तो ऐसे में ग्रीष्म काल में वहां पर जाना आपके लिए सही नहीं होगा।

गर्मी के मौसम में राजस्थान के सभी जिलों का तापमान अधिक बड़ जाता हैं। अक्टूबर से मार्च का महीना सुहावना रहता है, इस कारण भक्तों का यहां पर आना जाना लगा रहता हैं।

खाटू श्याम जाने का रास्ता

बाबा खाटू श्याम का यह मंदिर राजस्थान राज्य में हैं, जो कि सीकर जिले में स्थित हैं। यह मंदिर हिंदू का प्रमुख मंदिर में से एक हैं। आप खाटू श्याम मंदिर वायुयान और सड़क मार्ग से विभिन्न साधनों के माध्यम से जा सकते हैं।

बस और ट्रेन द्वारा खाटू श्याम कैसे जाएं?

यदि आप दिल्ली में निवास करते है और बाबा खाटू श्याम के दर्शन करना चाहते है तो दिल्ली से खाटू श्याम मंदिर के बीच की दूरी लगभग 254 किलोमीटर हैं तथा यहां पर जाने के लिए आपको कम से कम 6 से 7 घंटे का समय लगता हैं। रात्रि के समय दिल्ली से कई बस जयपुर जाती हैं।

आप बस से जयपुर जाए और जयपुर से सीकर जाए। आप जयपुर से टेंपो और कैब को बुक करके खाटू श्याम मंदिर जा सकते हैं। यदि आप ट्रेन से यहां आना चाहते है तो आपको रीगस स्टेशन पर उतरना होगा। यह सबसे पास के रेलवे स्टेशन में से एक हैं।

वायुयान से खाटू श्याम मंदिर कैसे जाएं?

यदि आप हवाई जहाज से बाबा के दर्शन प्राप्त करना चाहते है तो आपको जयपुर के एयरपोर्ट पर उतरना होगा। दिल्ली से जयपुर के लिए कई फ्लाइट्स हैं। जयपुर से आप बस द्वारा बाबा के धाम के दर्शन प्राप्त कर सकते हैं।

खाटू श्याम मंदिर में रुकने की जगह और खाने की व्यवस्था

बाबा खाटू श्याम में भारत के कोने-कोने से भक्त दर्शन करने के लिए आते हैं। उनके रुकने के लिए यहां पर धर्मशाला बनी हुई हैं। भक्त यहाँ पर रुक सकता हैं।

वहीँ खाने पीने की बात करें तो मंदिर के आस पास आपको कई सारे होटल और रेस्टोरेंट है, जहां आप खाना खा सकते हैं। वैसे भी खाटू श्याम बाबा के मंदिर में भंडारा हमेशा चलता रहता हैं। आप भंडारे के प्रसाद को भी खा सकते हैं।

खाटू श्याम बाबा के दर्शन कैसे करें?

खाटू श्याम बाबा के दर्शन आप दो प्रकार से कर सकते है पहला बाबा के दरबार में जाकर और दूसरा आप घर बैठे ऑनलाइन तरीके से।

कोरोना महामारी के कारण खाटू श्याम बाबा के अधिक लोग दर्शन नहीं कर पाते थे। इस कारण से सरकार ने खाटू श्याम के ऑनलाइन दर्शन करने की सुविधा उपलब्ध करवा दी हैं।

बाबा खाटू श्याम के दर्शन करने के लिए भक्तों की काफी भीड़ रहती है और दर्शन करने में भी काफी समस्या आती हैं। यदि आप लाइन में खड़े रहकर दर्शन को प्राप्त करना चाहते है तो कर सकते हैं। इसके ऑनलाइन माध्यम से बाबा के दर्शन प्राप्त करने के लिए आपको आवेदन करना होगा।

ऑनलाइन माध्यम से खाटू श्याम के दर्शन प्राप्त करने के लिए आवेदन कैसे करें?

  • सबसे पहले आपको खाटू श्याम बाबा की ऑफिशियल https://shrishyamdarshan.in वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर आपको कई सारे ऑप्शन देखने को मिल जाते हैं।
  • आपको दर्शन बुकिंग करें वाले ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस ऑप्शन पर जैसे ही क्लिक करेंगे, आपके सामने एक पंजीकरण फार्म खुल जाएगा।
  • पंजीकरण फार्म में सभी जानकारी को भरने के बाद बुक दर्शन वाली बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह से आपका खाटू श्याम बाबा के दर्शन के लिए आईने आवेदन हो जाता हैं।

खाटू श्याम मंदिर खुलने का समय

खाटू श्याम जी के दर्शन का समय गर्मी और सर्दी के दिनों के हिसाब से अलग अलग होता है। मंदिर के दर्शन प्राप्त करने के लिए आपको गर्मियों में सुबह 4.30 बजे से दोपहर 12:30 तक और शाम को 4.00 बजे से लेकर रात्रि 10 बजे तक मंदिर खुला रहता हैं।

वहीं सर्दी के मौसम में सुबह 5.30 से लेकर दोपहर 1 बजे तक और शाम को 4.30 से लेकर 9:30 तक मंदिर परिसर खुला रहता हैं।

खाटू श्याम मंदिर में आरती का समय

गर्मी के मौसम में सुबह 4:30 पर आरती की जाती है। वहीं सर्दी के मौसम में 5:30 बजे की जाती हैं। खाटू श्याम की भोग आरती की बात करें तो सर्दी के मौसम में यह आरती 12:30 बजे और गर्मी के मौसम में भी 12:30 बजे ही की जाती हैं। मंदिर बंद करने के समय आरती की जाती है, इसका समय 8:30 बजे हैं।

खाटू श्याम की पूजा कैसे करें?

बाबा खाटू श्याम को चाहने वाले देश में कई सारे भक्त है, जो बाबा की पूजा अर्चना करते हैं। लेकिन बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जिनको खाटू श्याम की विधिवत पूजा अर्चना कैसे की जाती है?, इसकी जानकारी नहीं होती हैं। खाटू श्याम बाबा की पूजा अर्चना करना बहुत ही सरल हैं।

पूजा करने का तरीका

खाटू श्याम की पूजा करने के लिए आपके पास उनकी एक प्रतिमा होनी चाहिए। आप इसको बाजार से भी खरीद सकते हैं। मूर्ति को आप जिस जगह पर रखे, उसकी पहले साफ सफाई कर लें।

मूर्ति के अलावा आपके पास घी का दीपक, फूल, कच्चा दूध, प्रसाद सामग्री आदि सभी समान होना चाहिए। अब आप खाटू श्याम बाबा की प्रतिमा को आप कच्चे दूध या पंचामृत से स्नान करवाए।

स्नान करवाने के बाद आप किसी साफ कपड़े से बाबा की प्रतिमा को पोंछ लें। खाटू श्याम को सबसे पहले पुष्पमाला पहनाए। इसके बाद क्रमसा घी का दीपक तथा अगरबत्ती को जलाएं।

अब आप पंचामृत को चढ़ाए। पंचामृत को चढ़ाने के बाद भोग आदि को लगाएं। भोग लगाने के बाद खाटू श्याम बाबा की आरती और वंदन करें।

पूजा समाप्त होने के बाद खाटू श्याम बाबा से पूजा में हुई किसी भी प्रकार की गलती के लिए माफी मांगे। इसके बाद बाबा श्याम के जयकारे लगाए।

यह भी पढ़े: 10+ भारत के सबसे प्रसिद्ध मंदिर

खाटू श्याम के प्रमुख त्यौहार

खाटू श्याम मंदिर में फाल्गुन मास में सबसे बड़ा त्योहार मनाया जाता हैं। यह त्यौहार 5 दिनों के लिए मनाया जाता हैं। इस त्योहार में संगीतकार और गायक भजन और आरती को गाते हैं।

खाटू श्याम के आसपास घूमने की जगह

यदि आप बाबा खाटू श्याम के दर्शन करने आते है तो इनके मंदिर के आस पास भी कई जगह है, जहां आप घूम सकते हैं। यह जगह निम्न हैं:

श्याम कुंड

खाटू श्याम मंदिर के पास में एक श्याम कुंड बना हुआ है। लोगों का मानना है कि खाटू श्याम जी की गर्दन को इस कुंड से ही खोदकर निकाला था।

Shyam Kund
Image : Shyam Kund

श्याम कुंड की ऐसी मान्यता है कि जो भी श्रद्धालु या भक्त इस कुंड के जल में स्नान करते हैं तो व्यक्ति को किसी प्रकार का कोई भी चर्म रोग से संबंधित बीमारी नहीं होती हैं।

श्री श्याम वाटिका

बाबा खाटू श्याम मंदिर के बाई तरफ ही एक श्याम बगीचा हैं। इस बगीचे के फूले का इस्तेमाल बाबा को श्रंगार करने के लिए किया जाता हैं। शयाम वाटिका में आपको कई प्रकार के पुष्प देखने को मिल जाते हैं। वाटिका में ही आलू सिंह जी प्रतिमा लगी हुई हैं।

Shri Shyam Vatika
Image : Shri Shyam Vatika

बालाजी महाराज सालासर

बालाजी महाराज और खाटू श्याम बाबा के मंदिर के बीच की दूरी 110 किलो मीटर हैं। बालाजी मन्दिर बाबा हनुमान के भक्तों को एक पवित्र मंदिर हैं। सालासर बालाजी का मंदिर राजस्थान के चुरू जिले में स्थित हैं।

Balaji Mandir Salasar
Balaji Mandir Salasar

यह मंदिर भारत वर्ष में फेमस हैं। चौत्र पूर्णिमा और अश्विन पूर्णिमा के दिन यहां पर भव्य मेले का आयोजन किया जाता हैं। मंदिर के पास में ही भक्तों के रहने के लिए धर्मशाला और खाने पीने के लिए रेस्टोरेंट भी बने हुए हैं।

हनुमान मंदिर

राजस्थान में खाटू श्याम मंदिर के आसपास घूमने लायक धार्मिक स्थलों में से एक हनुमान मंदिर है, जो ग्राम नांगल भरडा, तहसील चौमू में सामोद पर्वत पर स्थित है।

यह मंदिर खाटू श्याम मंदिर से 56 किलोमीटर की दूरी पर है। यह मंदिर पूरे भारत में प्रसिद्ध है, जिसके गर्भ ग्रह में भगवान हनुमान जी की 6 फीट की विशाल प्रतिमा स्थापित है।

इस मंदिर को सीताराम जी वीर हनुमान ट्रस्ट, सामोद के द्वारा बनाया गया है। यहां पर भगवान राम का भी एक मंदिर है।

लक्ष्मणगढ़ किला

खाटू श्याम मंदिर के आसपास घूमने लायक स्थलों में से एक लक्ष्मणगढ़ किला है। यह एक ऐतिहासिक इमारत है। इतिहास प्रेमियों के लिए  यह एक लोकप्रिय स्थल है।

Laxmangarh Fort Sikar

यह किला सीकर जिले से 30 किलोमीटर की दूरी पर लक्ष्मणगढ़ नामक गांव में बनाया गया है। इस किले का निर्माण 1862 ईस्वी में सीकर के रावराज लक्ष्मण सिंह ने करवाया था और इसके 2 साल के बाद ही उन्होंने लक्ष्मणगढ़ नामक गांव यंहा बसाया था।

हालांकि लक्ष्मणगढ़ शहर की यह आकर्षक ऐतिहासिक इमारत एक निजी संपत्ति है। यह किला झुनझुनवाला परिवार की संपत्ति है। इस जिले की वास्तुकला बहुत ही आकर्षक है। किले की संरचना विशाल चट्टानों के बिखरे हुए हिस्सों पर बनी है।

जीण माता मंदिर

जीण माता की सबसे अधिक पूजा राजस्थान राज्य के लोग करते हैं। जीण माता का मंदिर खाटू श्याम बाबा के मंदिर से सिर्फ 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं।

जीण माता को अष्टभुजा वाली माता के नाम से भी जाना जाता हैं। मंदिर के पुजारी और वहां के लोगों का कहना है कि यह मंदिर करीब 1000 वर्ष पुराना हैं।

Jeen-Mata-Mandir
Image: Jeen Mata Mandir

जीण माता मंदिर के विषय में एक ऐतिहासिक कहानी बहुत फेमस हैं। प्राचीन समय में दिल्ली का बादशाह औरंगजेब हुआ करता हैं। औरंगजेब सबसे क्रूर राजाओं में से एक था।

पूरे भारत को जीतने के उद्देश्य से उसने हर्ष पर्वत पर आक्रमण कर दिया था। हर्ष पर्वत पर कई मंदिर और गुफा को नष्ट कर दिया था।

जैसे ही वो जीण माता मंदिर की तरफ बड़ा तो जीण माता ने मधुमक्खी के स्वरूप रखकर उसकी सेना पर आक्रमण कर दिया था। एक साथ हुए मधुमक्खी के आक्रमण से उसकी सेना पस्त हो गई और मैदान को छोड़कर भाग गई।

इसके बाद औरंगजेब ने माता से माफी मांगी और सोने की बनी हुई प्रतिमा भेंट की तथा एक अखंड ज्योति भी जलाई, जो आज भी आपको जीण माता मंदिर में जलती हुई मिलती हैं।

गोल्डन वाटर पार्क

अगर आप खाटू श्याम मंदिर का दर्शन करने के लिए अपने बच्चों के साथ आते हैं तो खाटू श्याम मंदिर के आसपास घूमने लायक स्थलों में से एक गोल्डन वाटर पार्क है।

यह एक मनोरंजन पार्क है, जो 3 लाख वर्ग फीट में फैला हुआ है। इस गोल्डन वाटर पार्क को बने 6 7 साल हो चुके हैं। गर्मियों के मौसम में यहां पर काफी ज्यादा भीड़ रहती हैं। बच्चों के लिए यह मन पसंदीदा जगह है।

Golden Water Park Khatu Shyam Ji

वॉटर पार्क का खुलने का समय सुबह 9:30 बजे से लेकर शाम के 6:30 बजे तक का होता है। यहां पर टिकट शुल्क ₹300 है, वहीं बच्चों के लिए ₹200 है।

अगर कोई विद्यार्थी है तो अपना स्कूल आईडी दिखाकर ₹200 में प्रवेश प्राप्त कर सकता है। 3 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए मुफ्त प्रवेश है। इस वाटर पार्क में पार्किंग, पोशाक और लोकर की भी सुविधा है। हालांकि उसके लिए शुल्क देना पड़ता है।

गणेश्वर धाम

गणेश्वर धाम में सभी देवी देवताओं की अलग अलग मूर्ति बनी हुई हैं। खाटू श्याम मंदिर से गणेश्वर धाम के बीच की दूरी 75 किलोमीटर हैं। जैसे ही आप गणेश्वर धाम के मुख्य द्वार के अंदर पहुचेगे वैसे ही आपको देवी देवताओं के मंदिर देखने को मिल जायेंगे।

Ganeshwar-Dham
Image: Ganeshwar Dham

धाम के अंदर एक विशाल कुंड बना हुआ हैं, जहां पर लोग स्नान आदि करते हैं। पहाड़ियों के माध्यम से कुंड में पानी एकत्र होता हैं। ऐसा कहा जाता है कि जो एक बार इस जल में स्नान कर लेता है, उसको जीवन भर चर्म रोग नहीं होता हैं।

FAQ

खाटू श्याम का मंदिर किसने बनवाया था?

खाटू श्याम जी का मंदिर रूप सिंह चौहान तथा उनकी पत्नी नर्मदा कंवर ने 1027 ईसवी के आसपास बनाया था।

खाटू श्याम राजस्थान के कौन से जिले में स्थित हैं?

खाटू श्याम राजस्थान के सीकर जिले में खाटू गांव के पास में स्थित हैं।

खाटू श्याम कब जाना चाहिए?

खाटू श्याम अक्टूबर से लेकर मार्च तक के किसी भी महीने में जा सकते हैं।

जयपुर से खाटू श्याम कितने किलोमीटर है?

जयपुर से खाटू श्याम मंदिर की दूरी 80 किलोमीटर है।

खाटू श्याम बाबा किसका रूप है?

खाटू श्याम बाबा को भगवान श्री कृष्ण के कलयुग का अवतार माना जाता है।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में श्री खाटू श्याम मंदिर के दर्शन व यात्रा की सम्पूर्ण जानकारी (Khatu Shyam Mandir ki Jankari) दी हैं तथा मंदिर के बारे में भी आपको इस मंदिर के इतिहास के बारे में भी लेख में बताया हैं।

उम्मीद करते हैं इस लेख में दी गई जानकारी आपके उपयोगी साबित होगी। यदि आपको यह लेख अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

यह भी पढ़े

वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन, खर्चा और जाने का समय की सम्पूर्ण जानकारी

10+ काशी, बनारस में घूमने की जगह, खर्चा और जाने का समय

तिरुपति बालाजी यात्रा की सम्पूर्ण जानकारी

10+ केदारनाथ में घूमने की जगह और कब जाएँ?

यात्राओं से संबंधित नवीनतम जानकारियों के लिए हमारे वाट्सऐप पर जुड़ें Join Now
यात्राओं से संबंधित नवीनतम जानकारियों के लिए हमारे टेलीग्राम पर जुड़ें Join Now

Leave a Comment

1 thought on “श्री खाटू श्याम मंदिर के दर्शन व यात्रा की सम्पूर्ण जानकारी”